what is benefits of almond, Badam Khane ke fayde

Almond and its Characterstics 

बादाम एक पेड़ पर पाए जाने वाला मेवा होता है। वैसे कई जगह इसको मेवा और बीज के समक्ष माना जाता है। इसके ज्यादातर पेड़ ईरान और इराक में पाए जाते है, भारत में इसकी सबसे ज्यादा उपज जम्मू में होती है। बादाम एक पेड़ पर फल के समान उतपन्न होता है और उस फल के अंदर जो मींगी होती है उसको बादाम कहा जाता है। बादाम की दो प्रजातियां होती है, मीठी और कड़वी, कड़वी का सेवन हानि कारक होता है और मीठे बादाम का सेवन फायदा देता है। बादाम के कई सारे फायदे होते है जो शरीर को लाभ देते है और इसके कई गुड़ भी होते है जैसे -

  •  बादाम शरीर को चुस्त और रोगो से शरीर को बचता है। 
  •  शरीर को बलवान करने के लिए और दिमाग तेज के लिए बादाम को खाना लाभदायक होता है। 
  •  बादाम वीर्य को गाढ़ा और सीमन को ज्यादा पोषड देता है। 
  •  ह्रदय के रोगियों को दिल का डोरा रोकने में मद्त करता है। 
  •  बादाम खाने से आँखों की रौशनी के साथ-साथ बालों को झड़ने से रोकता है। 
  •  बादाम में प्रोटीन होने के कारन ये घाव को जल्दी भर देता है और सूजन को कम करता है।
  •  इसमें फैट की मात्रा कम होने के कारण मोटापे को कम करता है। 

                                                            
badam khane ke fayde



What is benefits of almond | Badam Khane ke fayde

1.आँखों की रौशनी -

बादाम का सेवन करने से आँखों की रौशनी तेज होती है इसमें विटामिन E के गुड़ होने के कारण बादाम, आंख के पानी निकलने में या आंख आने पर फायदा देता है। इसका ज्यादा इस्तेमाल बजन को बढ़ा सकता है। इसलिए पानी में भीगे हुए 3 से 4 बादाम को पीसकर खाने से और ऊपर से दूध पीने से आँख की सभी प्रकार के रोग खत्म होते है, इससे आँखों में एलर्जी भी ठीक होती है।

 आँखों में जलन होना, लाल होना, धुंधला दिखाई देना ये सभी बादाम का सेवन करने से इनमें फायदा मिलता है। बादाम आँखों की पुतली में हुई सुकड़न को भी ठीक करता है। बादाम आँखों को एक सुरक्षित परत प्रदान करता है, जिससे सूरज की किरणों से सुरक्षा मिलती है। 

2. झाइयों, दाग और धब्बों में बादाम खाने से फायदा 

 उन कोशिकाओं का नष्ट होने के बाद उस स्थान पर कोई नई कोशिका का परिवर्तन न होने के कारण दाग और झाइयां उतपन्न होती है, बादाम खाने से इन झाइयों में फायदा होता है और अगर 6 बादाम भिगो कर उनको महीन पीस कर उसमें 40 से 60 ग्राम गुलाब जल मिला कर और चंदन का रस या परफ्यूम मिला कर उसको अच्छे से मिला लें और उन दाग धब्बे के स्थान पर उसको लगाएं, इसका उपयोग फदीन में 3 से 4 बार उपयोग करें और उस जगह ज्यादा उपयोग करें जहां ज्यादा बड़ा दाग है। 

3.  मुँह से बोलने की समस्या में समाधान 

बादाम की 6 से 7 गिरी भिगो लें और उसमें २५ ग्राम माखन मिला कर उसको कुछ महीनो तक खाएं इससे हकलाने की और तुतलाने की समस्या खत्म होती है और हकलाने वाले व्यक्ति को भी अच्छे से बोलने की कोशिश करनी चाहिए, और बादाम की 6 गिरी को पीस कर उसको कालीमिर्च के साथ मिला कर चाटने से भी तुतलाना बंद हो जाता है। 

बादाम का छिलका उतार कर उसको अच्छे से पीस कर कली मिर्च के साथ 10 गिरी बादाम के साथ और ६० ग्राम माखन के साथ खाने से बादाम तुतलाने और हकलाने में फायदा देता है। 

 

4. दन्त की सफाई, चमकदार और दांतदर्द में फायदा 

 दांत का खून रोकने के लिए और दांत का हिलने की दिक्क्त के लिए २० ग्राम बादाम के छिलके, फिटकरी, और काली मिर्च को 20-20 ग्राम लेकर काजू के साथ पीस लें और फिर उसका रोजाना मंजन करें इससे दन्त दर्द में भी सुधार होता है। 

दन्त को साफ़ करने के लिए बादाम के छिलके काफी फायदा देते है, बादाम के छिलकों को जलाकर उसमें 20 गुना ज्यादा फिटकरी मिला कर उससे मंजन करने से दन्त स्वस्थ और साफ़ रहते है। या फिर फिटकरी के जगह सेंधानमक का उपयोग कर सकते है लेकिन ध्यान रहे सभी चीज बारीक से पीसनी चाहिए इससे दन्त मजबूत होते है। 

5. बादाम खाने से शरीर में तंदरुस्ती  

बादाम को खाने से ये आपके शरीर की तंदरुस्ती में फायदा देता है, इसका रोजाना सेवन करने से आपके वीर्य में बृद्धि होती है जिसके कारन आपका टेस्टेस्टरोंन हार्मोन में बृद्धि होती है और इसके कारन आपका शरीर भी तंदरुस्त होता है , शरीर को बलबान बनाने के लिए प्रोटीन की आवश्यकता ज्यादा होती है और बादाम में 6 ग्राम प्रोटीन होता है और इसमें नामात्र फैट होता है इसलिए ये शरीर का वजन कम करने में भी फायदेमंद मन जाता है और इससे रोग प्रतिरोधक सकती भी बढ़ती है, इसलिए बादाम खाने से एक रोगी के शरीर में काफी स्फूर्ति देखी गयी है। 

बादाम में कार्बोहायड्रेट न होने के कारन कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण में रखता है और इससे ह्रदय रोग के होने की सम्भावना कम हो जाती है, बादाम खाने के साथ साथ अगर शरीर से श्रम कराया जाए तो उससे आपको बादाम का ज्यादा फायदा मिलेगा। 

6.यार्दाश्त की कमजोरी 

बादाम एक बहुत ही अच्छा स्त्रोत है यार्दाश्त को और दिमाग को तेज करने का, इसका रोजाना सेवन आप दूध के साथ या इसको पीस कर दूध में फेंट कर लेने से दिमाग की यार्दाश्त के साथ साथ दिमाग भी तेज होता है, दिमाग में खून का प्रबाह तेज हो जाता है जिसके कारन दिमाग को उचित मात्रा में ऑक्सीजन मिलती है जिससे वो काफी तेज चलने लगता है, आप बादाम का हलवा, लड्डू भी दिमाग के लिए फायदेमंद माने जाते है। 

 10  बादाम की गिरी को भिगो कर उसमें ७ दाने काली मिर्च के उनको एक साथ पीस लें उसको धनदायी के तरह छान लेने से उसमें चीनी या मिश्री मिला कर 40 दिन तक पिएं इससे याददाश्त में फायदा होगा। 

7. ब्लड प्रेशर में बादाम खाने से लाभ 

बादाम को मिश्री के साथ और माखन के साथ पीस कर खाया जाये और उसके ऊपर 250 ग्राम दूध पिया जाए तो उससे ब्लड प्रेशर यानि निम्न रक्तचाप में सुधार होता है या आपक इसको घिस कर भी खा सकते है, लेकिन इसमें मात्र 10 से 8 गिरी बादाम की होनी चहिये बादाम खाने से बजन में भी कमी आती है और रक्त का प्रबाह भी संतुलित रहता है। 

8. पित्त की पथरी 

6 बादाम, 6 मुनक्का , २ दाने इलायची के १०० ग्राम मिश्री के साथ ४ ग्राम खरबूजा मिला कर उसके साथ पानी मिला लें और पित्त के रोगी को दे दें इससे उसकी पथरी में आराम मिलता है।  

9. कोशिकाओं में फायदेमंद 

शरीर में जब कोशिकाएं नस्ट हूँ जाती है और वो नयी कोशिका का रूप नहीं ले पाती तो वो कैंसर कारक साबित हो सकती है, अगर कोई व्यक्ति 3 से 4 बादाम की गिरी का सेवन करता है तो उसको कैंसर का खतरा नहीं होता, बादाम में फाइबर होने के कारन ये कोलन कैंसर से बचाता है।  और शरीर की नष्ट हुई कोशिकाओं का दोबारा से निर्माण करता है। 

10. बालों की और मधुमेह की समस्या में लाभकारी 

बालों का झड़ना, कड़क रहना, सफ़ेद बाल हो जाना , इस समस्याओं के लिए सुबह खली पेट बादाम को पीस कर उसको दूध में मिला कर उसका सेवन करें, नियमित रूप से 5 से 7 बादाम का सेवन काफी लाभदायक और शरीर के लिए काफी गडकारी माना गया है। 

मधुमेह रोगी के लिए बादाम और काली मिर्च की ठंडाई को शहद के साथ मिला कर एक शीतल पेय की तरह देने से रोगी को ठंड का एहसास होता है।  पर ध्यान रहे अगर रोगी को ढंड पसंद ना हूँ तो ना करें। 

 11. पोषड की कमी को पूरा करना 

बादाम में कई प्रकार के पदार्थ होते है जो शरीर को अलग - अलग जरूरत के अनुसार उसका पालन पोषड करते है, बादाम में माँगनेसेउम , फाइबर , कैल्शियम, और प्रोटीन बहुत ही भरपूर मात्रा में होता है, अगर इसका उपयोग योन अवस्था में किया जाये तो बुढ़ापे में आपको किसिस प्रकार के रोग से ग्रस्त नहीं होना पड़ेगा। इसके रोजाना उपयोग से पाचन तंत्र मैं भी बादाम फायदेमंद मन गया है, इसी के साथ काफी डॉ तक आपके पेट को भरा महसूस करवाता है जिससे वेट को नियंत्रित करने में मदगार साबित होता है।         

 12. बीर्य का न बढ़ना या नपुंसकता 

बादाम वीर्य की मात्रा बढ़ता है, इसके लिए रोजान 3 से 4 बाम काली मिर्च इ साथ पीस कर गर्म दूध में केसर डाल कर निरंतर सेवन करने से वीर्य को गाढ़ा और लिंग से संबंधित समस्याओं से समाधान देता है। 

बादाम को गर्म पानी में भिगो दें उसको सुबह उठकर पकाकर गर्म पानी में उसका पेय बना कर सेवन करने से मूत्रजनेन्द्रिय संस्था से जुडी साड़ी समस्या से फायदा देता है, लिंग में सुधार करता है।     

    



Comments