Symptoms of oral cancer, Muh Ka Cancer, Ghareluupchar in Hindi

Muh ka Cancer ke Lakshan | मुंह के कैंसर की पहचान 

कई सारे मायने में मुंह के कैंसर की पहचान early स्टेज में में कर ली जाए तो उसके ठीक होने की संभावना बढ़ जाती है , लेकिन कुछ लोगो को last stage में जा कर पता चलता है  कि उन्हें मुँह का कैंसर भी है लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी होती है इसलिए ये जानना जरूरी है कि इसके लक्षण क्या क्या है , जिससे patient को समय पर cancer का पता चल सके और उसका इलाज हो सके। 

1. Muh Ka Cancer का सबसे पहला  आपके होंठ पर या आपके मुँह में एक छाला हो जाना और उसका ठीक न होना आपको उसके कारन निगलने में तकलीफ होना और काफी कोशिश के बाद भी वो ठीक नहीं हो रहा तो वो  cancer हो सकता है। 

2. आपके मुँह में सफ़ेद दाग पड़ना और काफी जलन महसूस होना ये भी एक लक्षण होता है मुँह का कैंसर का, लेकिन ये दाग हाल ही में नहीं होते है , इनको काफी टाइम लगता है जैसे 6 से 7 साल से अगर ये दाग हैं तो ये warning sign है आपके लिए । जो लोग 60 से ऊपर होते है उनमें  cancer होना सामान्य माना गया है। 

3. मुंह के कैंसर की पहचान के लिए आपके गाल पे या जीभ के नीचे या ऊपर हिस्से में अगर कोई गांठ हो जाती है और वो काफी दर्द कर रही है , आप उसके कारण कुछ खा -पी भी नहीं पा रहे हैं तो ये भी आपके लिए खतरनाक चिन्ह है। 

4. आपको आपके जवडे को और मुँह को हिलाने में दिक्क्त महसूस हो रही है या आपको आपके मुँह के अंदर कुछ भरीपन सा महसूस हो रहा है और आप उसको अपनी जीभ से महसूस भी कर रहे है तो हो सकता है वो muh ka cancer हो सकता है। 

5. आपको मुंह के कैंसर की पहचान करने के लिए आपको ध्यान देना होगा कि आपका अपने आप बिना किसी कोशिश के weight loss होने लगता है और उसी के साथ आपको अपने आप ही nausea महसूस होती है , आपको खाना खाने का मन नहीं करता। 

6. आपको लगातार सांस लेने में तकलीफ होने लगती है, इसका मुख्या कारन है कि आपके अंदर वो धीरे धीरे बढ़ रहा है , इससे आपको काफी दिक्क्त होती है और ज्यादा दिक्क्त में, आपको oxygen mask की भी जरूरत पढ़ सकती है। 

7. muh ke cancer ka lakshan है कि आपके दन्त में कोई परेशानी नहीं है फिर भी वो टूट कर गिर रहा है बिना किसी कारन के तो हो सकता है कि उस जगह कोई गांठ पनप रही हो, इसकेलिए आपको डेंटिस्ट के पास जाकर उससे जांच करवानी होगी ताकि वो देख सके कि आपके दांत कैसे टूट रहे है। 

मुंह के कैंसर की पहचान



मुंह के कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज | Muh ke Cancer ka Gharelu upchar

 मुंह के कैंसर की पहचान करने के बाद इसको ठीक करने का दावा है की इसको घरेलु उपचारो से ठीक किया जा सकता है , लेकिन उस के लिए उन सभी चीजों को नियमित रूप से पालन करना होगा। 

1.Muh ka cancer ठीक करने के लिए Pranayam योग को काफी फायदेमंद माना गया है , इसको दिन में एक घंटा सुबह और एक घंटा शाम को  और दोपहर में भी एक घंटा करें इससे आपके muh ke cancer के tumor में असर होगा और आपको इससे काफी फर्क भी महसूस होगा, और दावा ये भी है की जितनी भी cells नष्ट हो जाती है वो अपने आप ही repair होना शुरू हो जाती है। pranayam के भी कई प्रकार है इनमें से आप कपालभाति और अनुलोमबिलोम को इन सभी को दिन में एक-एक घंटा करने से आपके अंदर काफी सुधार देखने को मिलता है। कपालभाति और अनुलोमबिलोम इन दोनों को भी दिन में तीन बार करना है सुबह , दोपहर और शाम । इन सभी को करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ जाती है और उससे आपकी cells में indiscipline growth रुक जाती है। 

2.गोऊ मूत्र, ये एक संजीवनी का काम करती है, दावा है इसके daily सेवन करने से आपके शरीर में जितनी भी अशुद्धियाँ है उन सभी को निकाल देती है और आपकी बॉडी detoxicate करती है, इसी के साथ ये 90% रोगों से हमको फायदा देता है , और हमारे immune system को भी boost करता है।  इससे आपके Muh ka cancer को शरीर से Cure करने में मद्त करेगी और मुंह के कैंसर की cells growth को भी रोकेगी। 

3. मुंह के कैंसर की पहचान होने के बाद ,व्हीट ग्रास, एलोवेरा और गिलोय इन सभी को नियमित रूप से लेते रहें आपको इनका सेवन दिन में तीन बार करना होगा , इससे आपके छाले  में कमी आएगी उसमें इससे ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ेगी जिससे वो उन cancer cells को ठीक करेगा और आपको उससे राहत भी मिलेगी। इसके साथ आपको नीम और तुलसी के पत्ते लेने है , एक बार में में 7 तुलसी के और 7 नीम के पत्ते का सेवन करना होगा और हर दिन के साथ एक- एक पत्ता उसमें बढ़ाएं ऐसे करते हुए आप 21 पत्तों का daily सेवन करें आपके मुँह के कैंसर में काफी सुधर देखने को मिलेगा। 

4.Muh ka Cancer ठीक करने के लिए  हरड और हल्दी का चूर्ण इन दोनों को एक साथ समान मात्रा में लें इनको पानी में मिलाकर कर इसका सेवन करें इसको सुबह और शाम एक - एक चम्मच दाल के सेवन करना है , इससे ये फायदा है की हल्दी हमारे शरीर में सूजन को कम करती है और इससे हमारा इम्यून सिस्टम भी boost होता है जोकि हमारे शरीर के लिए और कैंसर को ठीक करने में काफी सहायक माना गया है।

5.मुँह में जिस जगह कैंसर है उस muh ke cancer को नीम के पत्ते के रस से धोना है, इसको रोजाना अपने नियम अनुसार करना है और बाद में उसमें कत्थे का महीन चूर्ण भरना है, ऐसा करते रहने से आपका घाव कम हनी लगेगा उसकी शेप कम हनी लगेगी और अंत में वो खत्म हो जायेगा। 

6.मुंह के कैंसर की पहचान के बाद भोजन में आपको पपीता , गाजर , मौसमी, पके हुए केले और गेहू की ठुल्ली के अतिरिक्त कुछ भी नहीं खाना है, रोटी का कम से कम सेवन करें हो सके तो दलिये का सेवन करें अगर patient इन सभी बातों को ध्यान में रखे और इनका रोजाना सेवन करे तो Muh ka cancer मात्रा 5 से 6 महीने  ठीक हो सकता है।


Comments